पावन संसार अखबार की सदस्यता प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें |      सदस्यता शुल्क केवल Rs. 250/- |      Book Your Advertisement at V.K. Advertiser | All Leading Newspaper Available | Contact For Subscription Ph : 011-47057929 , 9811288839, 9311288839

Our Articles

कितनी सुरक्षित हैं महिलाएं

राजपथ पर आयोजित परेड में देश की झलक देखने के बाद गणतंत्र दिवस की धूम विशेषकर रोहिणी में समाप्त नहीं हुई थी. इस क्षेत्र के लोगों को बेसब्री से इंतज़ार था शाम का. दमदार तरीके से लोगों की आवाज़ उठाने वाले संगठन रोहिणी फोरम की ओर से आयोजित रोहिणी उत्सव का फोरम द्वारा आयोजित रोहिणी उत्सव के भव्य कार्यक्रम में बॉलीवुड के मशहूर गायक विनोद राठोड़, पंजाबी गायक अशोक मस्ती , शंकर साहनी ने अपने गीतों द्वारा हजारों दर्शकों को मस्ती में झूमने पर मजबूर कर दिया. गायक विनोद राठोड़ ,अशोक मस्ती और शंकर साहनी के अतिरिक्त कॉमेडी सर्कस फेम मंत्रा तथा सारेगामापा के विजेता तरुण सागर , एक्स फेक्टर फेम विशाल श्रीवास्तव , इंडियाज गोट तलेंट फेम विनोद ठाकुर और एन्तेर्तैन्मेंट के लिए कुछ भी करेगा के विजेता कलाकारों ने भी रोहिणी उत्सव के विशाल मंच पर अपनी प्रस्तुति देकर देर रात तक जमे हज़ारो दर्शकों का मन मोह लिया. दूसरी ओर, देशभक्ति पूर्ण कार्यक्रम में लोगों ने भी जमकर देशभक्ति गातों में गायकों का साथ दिया. ५ बजे संध्या से लेकर अर्द्वारात्रि तक चले कार्यक्रम में भारतीय लोक नृत्यों और अन्य आकर्षक कार्यक्रमों में दर्शक मस्ती में झूमते रहे.

रोहिणी उत्सव के आयोजन समिति के चेयरमैन नितिन मित्तल के अनुसार रोहिणी उत्सव में अल्लेख्नीय कार्य करने वाले रोहिणी निवासियों प्रमुख संस्थाओ को रोहिणी सिटीजन अवार्ड से सम्मानित भी किया गया. रोहिणी फोरम के सेवा प्रकल्प के चेरमन सतीश धुल ने बताया की आज ही रोहिणी में "नि:शुल्क शव वाहन सेवा" के लिए नई गाड़ी की शुरुआत भी रोहिणी फोरम द्वारा की गई.

दोस्त बनाये, दीर्घायु पाये

सयुंक्त परिवार के विघटन के बाद आज हमारे सामने सबसे बड़ी समस्या है असुरक्षा . हर व्यक्ति आज इन्सिकियौर अनुभव करता है. आज का सामाजिक परिवेश ही ऐसा बन गया है. बहुत से कारण है जो व्यक्ति का एकाकीपन बढ़ा रहे है. मेट्रो कल्चर जहाँ पड़ोसी तक एक दुसरे को नहीं पहचानते , बच्चे अपने क्लोज रिश्तेदारों को नहीं जानते. परिणाम?जीवन में बढ़ता मानसिक दबाव रसहीनता, खालीपन और ऊब. जिसका विकल्प वर्चुअल वर्ल्ड, एक बनावटी दुनिया नहीं हो सकती. लेकिन कुछ लोग ऐसे जहाँ में भी बेहद प्रफुल्ल, खुशमिजाज़, जीवन से भरपूर मिल जायेंगे. कभी अपने सोचा है उनकी चमकती खुशियों का राज क्या है? राज है इनका सपोर्ट सिस्टम , उनके कुछ अच्छे, सचे क्लोज दोस्त.

आज इन्टरनेट के ज़माने में जब दूरियां मिट गई हैं. सोशल नेटवोर्किंग सीट्स के ज़रिये दोस्तों रिश्तेदारों के लगातार संपर्क में रहा जा सकता है. एक रिसर्च के अनुसार अगर आपके पास एक सपोर्टिव सोशल नेटवर्क है तो आप न केवल जीवन में कई बरस जोड़ लेते हैं बल्कि अपनी लाइफ का तड़का भी लगा कर उसे मजेदार बना लेते हैं. मन: चिकित्सक रमा मल्होत्रा के अनुसार अगर सभी लोग दोस्ती की अहमियत समझकर चलें तो उन्हें हम लोगों के पास आने की कम की ज़रूरत पड़ेगी. हर व्यक्ति को भावनात्मक सपोर्ट, नारिश्मेंट चाहिए जिनकी ये ज़रूरतें पूरी नहीं होती वे मानसिक रोगी बन जाते है. जब निराशा और अवसाद के बादल छाए हो, आप बहुत लो फील कर रहे हों, ऐसे में किसी साथी से कोन्टक्ट आप में जीवन के प्रति आशा का संचार कराता है, आप में दुबारा आत्मविश्वास पैदा करता है.

दिल ओर दिमाग का दोस्त बादाम

नई दिल्ली(बलदेव दत्त).गत सप्ताह २६ जनवरी २०१२ को भारत का ६३ वा गणतंत्र दिवस पूरे देश में मनाया गया . प्रशांत विहार की फेद्रतिओं ऑफ रे जि दें ट्स वेल्फैर अस्सोसिअतिओं की ओर से पहली बार गणतंत्र दिवस पर के उपलक्ष्य में वीर सावरकर पार्क में समारोह का आयोजन बड़े आयोजन बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया. इस अवसर पर ध्वजारोहण विधायक जयभगवान अग्रवाल ने किया और सभी को गणतंत्र दिवस पर शुभकामनाए दी. संकड़े प्रशांत विहार निवासी पार्क एकत्रित हुए. राष्ट्रीय गीत सबने मिलकर गया. समारोह में अस्सोसिअतिओं के चेरमन हजारीमल गुप्ता, अद्यक्ष मोहन लाल यादव, सचिव डी के गुप्ता और कोषाध्यक्ष मंगतराम गुप्ता विशेष रूप से उपस्थित थे. उल्लेखनीय है की प्रशांत विहार के सभी ब्लाकों की रे जि दें ट्स वे ल फा य र अस्सोसिअतिओं का गठन किया गया है. अस्सोसैअतिओ ने गणतंत्र दिवस के मोके पर प्रशांत विहार के सभी स्थानीय निवासियों को हार्दिक बधाई दी और क्षेत्र के चहुमुखी विकास की कामना की. समारोह का संचालनश्री बलदेव दत्त ने किया.

युवावार्गो में बढते मनोरोग

अनिकेत एक होनहार स्टूडेंट था. जब उसके स्वभाव में एकाएक परिवर्तन आने लगा तो घर के सदस्य चिंताग्रस्त हो गए. आखिर हमारी केयर और प्यार में कहाँ कमी रह गई जो अनिकेत इस तरह अ जीबोगरीब बिहेव करने लगा है. कभी ज़रा सी बात पर नाराज़ होकर रात-रात भर गायब रहना, कभी बहकी-बहकी सी बातें करना और कभी खुशी का प्रदर्शन. अनिकेत जैसे ही और न जाने कितने युवक है जो महानगरीय कल्चर के कारण मनोरोग के शिकार हो रहे है.जो उम्र हसने खेलने व जिंदादिली से रहने की उर्जा से भरपूर होती है, उसी उम्र में ये युवक जिंदगी से बेज़ार उससे मुखालफत कर बैठते है . आखिर ऐसा क्यों हो रहा है की आधुनिक जीवन शैली दिल के रोगों के बाद दूसरे नंबर पर मनोरोगो की सोगात साथ ले आई है. मानसिक तनाव ही डाक्टरो के अनुसार कई बार एलर्जी, अस्थमा, बी.पी, diabetes, miagraine, व heartproblem का कारण होता है. आज तनाव शब्द शख्स की जुबान पर है. जीवन में मानो यह रच बस गया है कुछ इस तरह की बचना मुश्किल हो गया है. फिर ढूंढे जाते है इससे निपटने के तरीके, कुछ सही कुछ गलत. दिल्ली में कार्यरत मनोचिकित्सक डाक्टर आशा जैन के अनुसार अब पहले की तरह ज्यादातर स्किजोफ्रेनिया(मानसिक असंतुलन) के मरीज ही नहीं है. आज की बेगानगी, भयावह अकेलापन, बढ़ती गलाकाट प्रतियोगिता , ऊँची-ऊँची mehtavkanshaon के पूरे न होने की टूटन से बढते frustration के कारण दुसरे तरह के मनोरोग जैसे बायेपोलर डिसोर्डर (उत्तेजना व अवसाद )anxiety डिसोर्डर

ग्रुप में बात करे ऐसे

राजपथ पर आयोजित परेड में देश की झलक देखने के बाद गणतंत्र दिवस की धूम विशेषकर रोहिणी में समाप्त नहीं हुई थी. इस क्षेत्र के लोगों को बेसब्री से इंतज़ार था शाम का. दमदार तरीके से लोगों की आवाज़ उठाने वाले संगठन रोहिणी फोरम की ओर से आयोजित रोहिणी उत्सव का फोरम द्वारा आयोजित रोहिणी उत्सव के भव्य कार्यक्रम में बॉलीवुड के मशहूर गायक विनोद राठोड़, पंजाबी गायक अशोक मस्ती , शंकर साहनी ने अपने गीतों द्वारा हजारों दर्शकों को मस्ती में झूमने पर मजबूर कर दिया. गायक विनोद राठोड़ ,अशोक मस्ती और शंकर साहनी के अतिरिक्त कॉमेडी सर्कस फेम मंत्रा तथा सारेगामापा के विजेता तरुण सागर , एक्स फेक्टर फेम विशाल श्रीवास्तव , इंडियाज गोट तलेंट फेम विनोद ठाकुर और एन्तेर्तैन्मेंट के लिए कुछ भी करेगा के विजेता कलाकारों ने भी रोहिणी उत्सव के विशाल मंच पर अपनी प्रस्तुति देकर देर रात तक जमे हज़ारो दर्शकों का मन मोह लिया. दूसरी ओर, देशभक्ति पूर्ण कार्यक्रम में लोगों ने भी जमकर देशभक्ति गातों में गायकों का साथ दिया. ५ बजे संध्या से लेकर अर्द्वारात्रि तक चले कार्यक्रम में भारतीय लोक नृत्यों और अन्य आकर्षक कार्यक्रमों में दर्शक मस्ती में झूमते रहे.

 

Quick Subscription

Easy steps to subscribe yourself p